योगर्ट / दही

योगर्ट / दही

साओल 200 ml डबल टोंड दूध या 500 ml स्किम्ड दूध से ज़्यादा पीने के लिए प्रतिबधित करता है। हालांकि दूध एक बहुत ही स्वस्थ भोजन माना जाता है, परंतु दूध में कोलेस्ट्रॉल और वसा ( फैट ) की मात्रा अधिक होने के कारण इसे प्रतिबंधित किया गया है। अगर दूध से वसा (फैट) की बड़ी मात्रा को हटा दिया जाये तोह यह हृदय रोगियों द्वारा सेवन योग्य हो जाता है। लोग पूछते हैं कि ” दूध का उपभोग करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?” सबसे अच्छा उपभोग है दही या योगर्ट ।
योगर्ट और दही के बीच का अंतर यह है कि दही में लैक्टोबैसिलस नामक पांच प्रकार के बैक्टीरिया मौजूद होते हैं – जबकि योगर्ट में केवल एक ही प्रकार का तनाव मौजूद होता है। दही घर पर तैयार किया जा सकता है लेकिन योगर्ट बाजार से खरीदा जा सकता है। दही / योगर्ट का उपयोग रायता, छाछ या लस्सी के रूप में किया जा सकता है अन्यथा वैसे ही खाया जा सकता है।

दही / योगर्ट के फायदे

1. दही / योगर्ट कैल्शियम से भरे हुए हैं , जो ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में महत्वपूर्ण है।

2. दही / योगर्ट प्रोटीन का एक उत्कृष्ट स्रोत है, साथ ही पोटेशियम, विटामिन B12, मैग्नीशियम भी है।

3. दही / योगर्ट में लाइव बैक्टीरिया कल्चर होते हैं जो मानव शरीर में भी पाए जाते हैं और ये जीवित बैक्टीरिया कल्चर स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं।

4. दही / योगर्ट गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संक्रमण को भी कम करता है।

5. दूध का लैक्टोज दही के बैक्टीरिया द्वारा लैक्टिक एसिड में परिवर्तित हो जाता है जो भोजन को पचाने में मदद करता है।

6. कई तरह के शोध बताते हैं कि दही / योगर्ट शरीर को मजबूत करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को स्थिर करता है।