खाना बनाते समय पोषक तत्वों को कैसे बचाएं?

खाना बनाते समय पोषक तत्वों को कैसे बचाएं?

खाना बनाते समय पानी का अधिक उपयोग न करें। यदि उपयोग किया गया है, तब भी अतिरिक्त पानी को न निकाले क्योंकि ऐसा करने से पानी में घुलनशील विटामिन, विशेष रूप से विटामिन सी और खनिज 30-70% मात्रा में, पके हुए भोजन की मात्रा के आधार पर भोजन में से निकल जाते है।

साबुत फलियां (कवर्स के साथ) रात भर भिगोयें और फिर उसे प्रेशर कुक में पकाये। इससे पोषक तत्वों का न्यूनतम नुकसान होगा।

जहाँ तक संभव हो छिलके वाले खाद्य पदार्थों का उपयोग करें। यदि आपको छीलना है, तो पतली परत छिले और फिर उन फलों और सब्जियों का उपयोग करें।

छीलने के बाद उसे जितना कम से कम धोये उतना अच्छा है। छीलने से पहले धोने और साफ करने की कोशिश करें।

सारी सब्ज़ी को पकाएं, गर्माहट के संपर्क में आने वाले सतह क्षेत्र को कम करने के लिए बड़े टुकड़ों में सब्ज़ी को काटे।

पारंपरिक की तुलना में खाना पकाने के अन्य बेहतर तरीके –

उबालना: उबालना का अर्थ है की खाद्य पदार्थों को 100 डिग्री सेल्सियस पर पानी में डुबो कर और उस तापमान पर तब तक बनाए रखा जाता है जब तक कि भोजन मुलायम न हो जाए।

स्टीमिंग: इस विधि में भोजन को भाप से पानी में उबालकर पकाया जाता है ताकि भोजन पूरी तरह से भाप से घिरा रहे। स्टीमिंग से खाद्य पदार्थों को अधिक आसानी से पचाने, पौष्टिक और स्वाद से भरपूर बनाने के फायदे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें वसा नहीं होती और खाद्य पदार्थ पोषक तत्वों को बेहतर बनाए रखते हैं।

प्रेशर कुकिंग: इस विधि में इस सिद्धांत को शामिल किया जाता है कि दबाव में भाप से अधिक गर्मी उत्पन्न होती है और इसलिए खाना पकाने का समय बहुत कम हो जाता है। यह विधि इस प्रकार भोजन को अधिक स्वादिष्ट बनाता है।

माइक्रोवेव कुकिंग: इस पद्धति में उच्च आवृत्ति विद्युत चुम्बकीय तरंगों का उपयोग शामिल है जो भोजन में प्रवेश करते हैं और भोजन के भीतर कंपन द्वारा घर्षण गर्मी पैदा करते हैं। यहां खाना पकाने का मुख्य लाभ हैं – त्वरित खाना पकाने और ओवन में गर्मी की अनुपस्थिति।

बेकिंग: बेकिंग के द्वारा पकाए गए खाद्य पदार्थों में ओवन या तंदूर का उपयोग होता है जिसमें गर्म हवा को उसमें रखे भोजन के चारों ओर परिचालित किया जाता है। यहाँ भाप से सूखी गर्मी की विधि है जो खाना बनाते समय उत्पन्न होती है। जैसे, बेकिंग केक, ब्रेड, सब्जियां, पुडिंग आदि के लिए, इस विधि में, भोजन की ऊपरी परत भूरा होने के कारण सीधी गर्मी के कारण भूरी और कुरकुरी हो जाती है।