कैसे करें हृदय रोग से बचाव और निदान?

कैसे करें हृदय रोग से बचाव और निदान?
कोरोनरी हार्ट डिज़ीज़ का सबसे तर्कसंगत समाधान एक स्थायी प्रक्रिया में निहित है जो न केवल ब्लॉकेज होने की प्रक्रिया पर रोक लगाता है और साथ ही निदान भी करता है। रूकावट कई वर्षों से धीरे-धीरे बनती रहती है। कोलेस्ट्रॉल रक्त के साथ कोरोनरी धमनियों में बहता रहता है और धीरे-धीरे धमनियों की दीवारों पर (रिस्क फैक्टर के कारण) जमता रहता है। ये जमाव संयोजी ऊतकों के साथ वसा के नरम पिंड होते हैं और प्रतिवर्ती चरण में होते हैं। अब यह सिद्ध हो चुका है, कि कोलेस्ट्रॉल और वसा रक्त में आसानी से घुलनशील हैं। इस प्रकार ब्लॉकेज को भी हटाया जा सकता है यदि हम इस प्रक्रिया के लिए अवश्यक आदर्श स्थिति बना सकें।
यह आदर्श स्थिति बनाना आवश्यक है। “साओल हार्ट प्रोग्राम” लोगों को इस आदर्श स्थिति को बनाने में मदद और प्रशिक्षित करता है साथ ही योगासन, ध्यान; सर्वोत्तम संभव तनाव प्रबंधन कार्यक्रम; कोरोनरी हार्ट डिजीज की पूर्ण जानकारी और समझ; तंबाकू और धूम्रपान पर प्रतिबंध तथा खाद्य जागरूकता- खाना बनाने का प्रशिक्षण- एक उत्तम जीवनशैली को निर्देशित करता है जो ब्लॉकेज को धीरे-धीरे ख़त्म कर सकता है। इसकी जटिलताओं से बचने इन सभी को कार्डियोलॉजिस्ट, डॉक्टर, डाइटीशियन और योग मास्टर्स के मार्गदर्शन में ही किया जाना चाहिए – जो हृदय रोगियों के लिए आसानी से विकसित हो सकती हैं।

साओल हार्ट प्रोग्राम ने पिछले कई दशकों के प्रयोग और प्रयासों के बाद इस विशेषज्ञता को विकसित किया है। प्रारंभिक चरण में कार्यक्रम में शामिल होने वाले प्रत्येक मरीज ने कार्यक्रम को धीरे-धीरे सुधारने में मदद की है। हार्ट अटैक तथा अन्य जटिलताएं बेहद कम हो चुकी हैं।

“साओल हार्ट प्रोग्राम” जादू नहीं है – यह एक जादूगर या भगवान की तरह प्रदर्शन नहीं कर सकता, जो एक पल में ब्लॉकेज को हटा दे। सुधार का पहला संकेत देखने के लिए कम से कम दो सप्ताह लगते हैं। यह सुधार रोगियों द्वारा किए गए प्रयासों, उनकी उम्र, ब्लॉकेज के चरण और परिवार के सदस्यों के सहयोग पर निर्भर करेगा। अब हमारे पास हमारे रोगियों की कुछ एंजियोग्रॉफी की रिपोर्ट हैं, जो साओल हार्ट प्रोग्राम में भाग लेने के बाद की गई हैं, जो साबित करती हैं कि ब्लॉकेज ख़त्म हो सकते हैं।