कार्बोहाइड्रेट हमे अधिक कैलोरी देता है

भोजन में, कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा का मुख्य स्रोत होता है। हमारी ऊर्जा की, दैनिक आवश्यकता मुख्य रूप से कार्बोहाइड्रेट से पूरी होनी चाहिए। कार्बोहाइड्रेट से ही दिन भर की 70% कैलोरी की आवश्यकता पूरी होनी चाहिए। व्यक्ति को इस बात से भी सावधान रहना चाहिए की वो किस प्रकार का कार्बोहाइड्रेट अपने भोजन में ले रहा है। सही विकल्प चुनने के लिए कार्बोहाइड्रेट के विवरण और प्रकारों को जानना महत्वपूर्ण है।

कार्बोहाइड्रेट दो प्रकार के होते हैं:

1.) सिंपल कार्बोहाइड्रेट/ शुगर:

ये कार्बोहाइड्रेट संरचनात्मक रूप से बहुत सिंपल होते हैं और आसानी से टूट जाते है और इसलिए इसे खाने पर ये आसानी से पच जाते हैं। इसलिए वे हमारे रक्तप्रवाह में प्रवेश करते हैं और ब्लड शुगर के स्तर में अचानक से होने वाली वृद्धि के लिए जिम्मेदार होते हैं। ये कार्बोहाइड्रेट मुंह में ही टूटने लगते हैं और स्वाद में बहुत मीठे लगते है। उन्हें “बैड कार्ब्स” भी कहा जाता है। इसके कुछ उदाहरण केक, पेय, आइसक्रीम, पेस्ट्री, मिठाई आदि हैं।

2.) काम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट/ स्टार्च:

वे संरचनात्मक रूप से बहुत जटिल हैं और इसलिए हमारे पाचन तंत्र में टूटने और पचने में अधिक समय लेते हैं। इसलिए वे ग्लूकोज को बहुत धीरे से रक्तप्रवाह में छोड़ते हैं जिससे रक्त शर्करा के स्तर में नियंत्रित वृद्धि होती है। इन्हें GOOD CARBS के नाम से जाना जाता है। कुछ उदाहरण पूरे अनाज, साबुत दालें, सब्जियां, छिलके वाले फल आदि हैं। गुड कार्ब्स भी खनिज और विटामिन से भरपूर होते हैं जो शरीर के कुशल कामकाज के लिए आवश्यक होते हैं। इस प्रकार जटिल कार्बोहाइड्रेट उन लोगों के लिए सही विकल्प हैं जो वजन कम करना चाहते हैं और मधुमेह रोगियों के लिए एक नियंत्रित रक्त शर्करा स्तर को बनाए रखना चाहते हैं। भोजन में जटिल कार्बोहाइड्रेट को शामिल करने के लिए मामूली बदलाव जैसे कि साबुत अनाज और पूरे गेहूं का आटा, साबुत दालें, और मैदा, परिष्कृत रवा, सफेद ब्रेड जैसे परिष्कृत आटे के बजाय बहुत सारी सब्जियां महत्वपूर्ण हैं।

कार्बोहाइड्रेट का एक ग्राम जब शरीर में अवशोषित और उपयोग किया जाता है तो 4 कैलोरी प्राप्त होती है। इसलिए भोजन में कार्बोहाइड्रेट शरीर के विभिन्न कार्यों के लिए आवश्यक ऊर्जा का मुख्य स्रोत है। कुल दैनिक ऊर्जा आवश्यकता का 70% कार्बोहाइड्रेट से आना चाहिए। हालांकि कार्बोहाइड्रेट धमनियों में किसी भी रुकावट का कारण नहीं बनते हैं, वे वजन प्रबंधन में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। अधिक सेवन से दैनिक कैलोरी की मात्रा बढ़ जाती है और शरीर के वजन में वृद्धि होती है। इसलिए जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं, उनके लिए कार्बोहाइड्रेट का एक नियंत्रित सेवन महत्वपूर्ण है और जो लोग वजन कम करना चाहते हैं, उनके लिए कार्बोहाइड्रेट के उदार सेवन की सलाह दी जाती है।