एरीथमीया के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें

अस्थायी / गैर-गंभीर कारण:

1.कठोर व्यायाम
2.अपर्याप्त नींद
3.जरूरत से ज्यादा शराब का सेवन
4.चाय, कॉफी का अधिक सेवन
5.तनाव और चिंता
6.निर्जलीकरण
7.बुखार
8.ब्लड शुगर का कम होना
9.एनीमिया
10.ड्रग्स का सेवन
11.अनियंत्रित मधुमेह या हाई बी.पी.
12.हाइपर थायरॉइड – ओवरएक्टिव थायराइड
13.कुछ दवाएं: अस्थमा की दवाएं (सल्बुटामोल, डीफाइलाइन), बीपी की दवाएं (हाइड्रालजीन, मिनोक्सिडिल), कुछ एंटीथिस्टेमाइंस (टेरफेनैडिन), एंटीडिप्रेसेंट्स (सितालोप्राम, एस्सिटालोप्राम)

कुछ अन्य अधिक गंभीर कारण:

1.दिल की धमनियों में रुकावट – इस्केमिया
2.हार्ट अटैक या कार्डियक अरेस्ट
3.पिछले हार्ट अटैक के कारण क्षतिग्रस्त ह्रदय
4.वाल्व में रोग: जन्मजात या अधिग्रहित
5.कार्डियोमायोपैथी
6.दिल की विफलता – तीव्र या जीर्ण
7.पिछली हार्ट सर्जरी या जटिल एंजियोप्लास्टी

एरीथमीया की पहचान

घबराहट, सांस ना आना , सीने में दर्द, चक्कर आना, बेहोशी (सिंकोप), थकान, बेचैनी, लाइट हेडेडनेस।

जोखिम

कुछ परिस्थितियाँ एरीथमीया विकसित करने के जोखिम को बढ़ा सकती हैं। इसमें शामिल है:
· कोरोनरी धमनी में रोग, हृदय की अन्य समस्याएं और पिछली हार्ट सर्जरी
·उच्च रक्तचाप
·जन्मजात हृदय रोग
·थायरॉयड की समस्या
·मधुमेह
·बाधक निंद्रा श्वासरोध
·इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन

जटिलता

कुछ एरीथमीया ऐसी होती हैं जो खतरे को बढ़ा सकती हैं जैसे:

· स्ट्रोक या लक़वा
· दिल की धड़कन रुकना
· अचानक हृदय की गति बंद हो जाना
· बिगड़ती हुई एरीथमीया

उम्मीद है आपको यह ब्लॉग पसंद आया होगा!

अधिक स्वास्थ्य संबंधी ब्लॉग के लिए, कृपया यहाँ क्लिक करें।

हमारी वेबसाइट पर जाने के लिए, कृपया यहाँ क्लिक करें। फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए, कृपया यहाँ क्लिक करें।